Janam kundli predictions in Hindi by best astrologer Delhi

kundli-in-hindi

Janam kundli predictions in Hindi by best astrologer Delhi

Janam Kundli in Hindi: Brihaspati is observed as the Guru of the Gods. Jupiter is considered very important in the horoscope. The location of Jupiter is ascertained to know the answer to the questions related to high position, honour, and education.

Planet Jupiter ie Guru has a very important role in a person’s life. In the fifth house of the horoscope, it gives different fruits in different Lagana. It is believed that the person will be successful in life or not, it is also known from the position of the Guru in Janam kundali. To get success, it is considered very important to have auspiciousness of Guru in the horoscope. Because there is a belief that if the Guru is not in a strong position then the person does not get the full fruits of karma. If the Guru is weak then there is a lack of respect and a hindrance in attaining a high position.

Free online Janam kundli in Hindi reading:

पंचम भाव में गुरु का फल जातक को पंचम भाव में गुरु की तरह बनाता है। यह समाज के हित के लिए हमेशा तैयार है। ऐसा व्यक्ति दानी होता है। ऐसे व्यक्ति का समाज में सम्मान होता है, उन्हें लोगों का प्यार उनके जनम कुंडली हिंदी में के अनुसार मिलता है। उनके पास ऐसे व्यक्तियों का नेतृत्व करने की क्षमता है जो उद्योगपति या सामाजिक कार्यकर्ता हैं।

मेष राशि में आरोही:

मेष राशि का स्वामी नवम और बारहवें भाव का स्वामी है, इस लग्न में पंचम भाव में सिंह राशि आती है जो राजयोग का सुख प्रदान करती है। धन और सम्मान की प्राप्ति होती है।

वृषभ लग्न:

गुरु अष्टमेश और एकादश अशुभ फल देता है, इसके पंचम भाव में कन्या राशि होती है जो जातक को ज्ञान के क्षेत्र में सफलता दिलाती है। एक व्यक्ति के बच्चे अच्छे हैं।

मिथुन राशि:

तुला राशि के कारण गुरु सप्तमेश और दशमेश पंचम भाव में स्थित है। ऐसे व्यक्ति को बहुत सम्मान मिलता है। व्यक्ति अच्छे कर्म करने वाला होता है।

कर्क लग्न:

गुरु छठे और नौवें भाव का स्वामी होकर मंगल के पांचवें भाव में आता है। मंगल गुरु का मित्र होने के साथ-साथ इस लग्नेश में दशमेश भी है। जिसकी कुंडली में ऐसा स्थान होता है उसे सभी प्रकार के सुख प्राप्त होते हैं।

सिंह लग्न:

गुरु पंचमेश और अष्टमेश होकर अपनी राशि में है। ऐसे लोग बच्चों के मामले में भाग्यशाली होते हैं। बच्चों को अच्छी ख़ुशी मिलती है।

कन्या लग्न:

गुरु चतुर्थ और सप्तमेश होने के कारण, दो केंद्रों का स्वामी होने के कारण, एक व्यक्ति केंद्रीय दोष से प्रभावित होता है। यह पंचम भाव में अपनी नीच राशि में होता है, इसलिए व्यक्ति को अच्छे फल कम मिलते हैं और जीवन में संकट आता है।

तुला लग्न:

तीसरे और सातवें होने के कारण, यह पांचवें गुरु शनि का कुंभ राशि है। यह स्थिति व्यक्ति को जीवन में धार्मिक बनाती है।

वृश्चिक लग्न:

गुरु द्वितीय और पंचम है। पंचम गुरु स्वराशि, मीन राशि के जातक को लाभ देता है, ऐसे व्यक्ति को जीवन में सफलता मिलती है।

धनु लग्न:

गुरु केंद्रापथिया दोष से प्रभावित होने के बाद भी, मेष राशि का यह पांचवां गुरु व्यक्ति को सर्वश्रेष्ठ संतान देता है। उसे संतान से सुख मिलता है। जीवन में भी कोई कमी नहीं है।

मकर लग्न:

एक शिक्षक द्वादश और षष्ठेश के रूप में, वृषभ पंचम भाव में है। ऐसे लोग शिक्षा के मामले में अच्छे होते हैं। बच्चे भी अच्छे हैं, शिक्षा भी अच्छी है। ऐसे व्यक्ति का बच्चा विद्वान होता है।

कुंभ लग्न:

गुरु एकादश और द्वितीयेश बना हुआ है और पंचम भाव में मिथुन राशि के माध्यम से, एक व्यक्ति के बच्चे योग्य और सुसंस्कृत हैं। बच्चों को धर्म के कामों में दिलचस्पी होती है।

मीन लग्न:

गुरु दशमेश और लग्न पंचम भाव में पंचम भाव में हो, ऐसा गुरु किसी भी जातक की कुंडली में होता है जो उसे सभी प्रकार के सुख देता है। बच्चा अच्छी तरह से बाहर निकलता है, स्थिति प्रतिष्ठा और उच्च शिक्षा प्राप्त करता है।

Free Janam Kundali is separated into 12 houses, which are home to different signs and planets. On the chart, the first house starts with the Ascendant, and the rest are numbered in an anticlockwise direction. These houses define the position and astrological aspects of a person. Every house in the Kundali represents a different prospect of life, such as career, relationships, money, etc.

Genuine astrologer in Delhi:

Birth Chart prepared by Best astrologer in Delhi is based on the planetary positions at the time of your birth. Different planets in different houses describe how your life will shape up as you grow. It can highlight your personality, career, finance, marriage, children, family, health, and other important aspects of your life. Birth charts are also used for Kundli matching at the time of marriage.

Related posts

Leave a Comment