यदि आपकी कुंड़ली में चल रही राहु की महादशा तो इन उपायों से पाएं मुक्ति

यदि आपकी कुंड़ली में चल रही राहु की महादशा तो इन उपायों से पाएं मुक्ति

आपकी जन्मकुंडली में तो नहीं है कोई दोष, कब आएगी राहु की महादशा, अगर आप के कुंडली में राहु महादशा का साया है तो उससे निकलने के उपाय यहाँ से प्राप्त करें |

किसी जातक की कुण्‍डली में राहु की दशा या अंतरदशा (Rahu Mahadasha or Antardasha) चल रही हो तो उसे क्‍या समस्‍या आएगी। अपनी कुण्‍डली विश्‍लेषण के दौरान जातक का यह सबसे कॉमन सवाल होता है और किसी भी ज्‍योतिषी के लिए इस सवाल का जवाब देना सबसे मुश्किल काम होता है। इस लेख में हम चर्चा करेंगे कि राहु की मुख्‍य समस्‍याएं (Rahu related Problems) क्‍या हैं और जातक का इस पर क्‍या प्रभाव पड़ता है।

राहु की महादशा का समय:

राहु मूलतः छाया ग्रह है, फिर भी उसे एक पूर्ण ग्रह के समान ही माना जाता है। यूं तो इसका अपना कोई अस्तित्व नहीं होता, लेकिन ज्योतिष शास्त्र में इसे शनि ग्रह से भी अधिक हानिकारक माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि हर व्यक्ति के जीवन में एक बार राहु की महादशा जरूर आती है। यह महादशा एक या दो नहीं बल्कि पूरे 18 वर्ष चलती है। इस अवधि में राहु से प्रभावित व्यक्ति को अपमान और बदनामी का सामना भी करना पड़ सकता है।

राहु की महादशा में राहु की अंतर्दशा (Rahu Mahadasha Rahu Antardasha) जातक पर कोई खास दुष्‍प्रभाव नहीं डालता है। अगर कुण्‍डली में राहु कुछ अनुकूल स्थिति में बैठा हो तो प्रभाव और भी कम दिखाई देता है। राहु की महादशा में राहु का अंतर अधिकांशत: मंगल के प्रभाव में ही बीत जाता है।

Know your Rahu Mahadasha Time in your Kundli from here.

राहु की महादशा में शादी:

राहु-केतु के अकेले पहले भाव में होने से ऐसी शादी के निभने में घरवालों द्वारा ही परेशानी खड़ी की जा सकती है। यह संभावना हो सकती हैं कि लंबे समय तक जीवनसाथी से दूर रहना पड़े।शादी ही नहीं, राहु तलाक के योग भी बनाता है| राहु के माया जहां व्यक्ति को इंटरकास्ट (गैर जाति में) मैरिज के लिए उकसाता है वहीं यह राहु तलाक भी करवा सकता है।

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें & तुरंत राहु महादशा के उपाय इन हिंदी से अपने आने वाला जीबन सुखमय करें |

राहु के महादशा के उपाय

ज्योतिष शास्त्र में राहु महादशा के लालकिताब उपाय बहत लावदायक है|

  • चाँदी का सिक्का सदैब अपना पास रखिये
  • चलते दरिया में ( बहते हुए पानी ) राहु के बस्तुओं को बहाये
  • गंगा स्नान करें
  • काले कुत्तों को खिलाये अथबा उससे खाना खिलाये
  • अंधे लोगों के सहाय बने
  • मांस-मछली सरब अदि मादक द्रब्य का ज़बान ना करें
  • भ्रस्टाचार से सदैब दूर रहे
  • निर्धन ब्यक्ति की आर्थिक रूप में सहायता करें
  • लोहे का छाला अथबा कड़ा पहन ने लावदायक रहेगा

उम्मीद है की राहु गृह से संवादित लाल किताब में दी गयी यह जानकारि आपके कार्य को सिद्ध करने में सफल होगी।

राहु के कोप को शांत (राहु की महादशा से बचने के उपाय) करने के लिए भगवान शंकर की उपासना करनी चाहिए और उनके गले में जो शेषनाग है उनकी भी विशेष पूजा अरचना करनी चाहिए। राहु के कोप को शांत करने के लिए भगवान शंकर की उपासना करनी चाहिए और उनके गले में जो शेषनाग है उनकी भी विशेष पूजा अरचना करनी चाहिए।

अशुभ राहु के लिए करें ये सरलतम उपाय, अभी नही करेंगे तो बहुत पछतायेंगे |

In case, if you don’t know where Rahu is placed in your birth chart or confused about it, get our detailed Janampatri now by consulting our Dosh Problem Solution specialist now!

To Get Your Personalized Solutions, Talk To our Astrologer Now!

Contact: +91–9178117363 or +91–9776190123

Visit: Tabij.in

Related posts

Leave a Comment